INQLAAB, गौ- सेवा की सरकारी ‘हकीकत’ !