STVHARYANANEWS, REHASYA( 8.4.2017) एक अभिशप्त पत्थर की ‘रहस्यमयी’ कहानी