BREAKING NEWS
ICC अवॉर्ड्स में दिखा विराट का जलवा, साल के तीनों अवॉर्ड्स किए अपने नाम            सरकार के दावों की खुली पोल, सीवरेज का गंदा पानी पीने को मजबूर लोग            जींद के चुनावी जंग में फिर भीड़े INLD और JJP, दादा ने अपने पोतों को बताया गद्दार           ASI ने पहले पत्नी को उतारा मौत के घाट फिर खुद किया सुसाइड, जानिए क्या है पूरा मामला            जींद उपचुनाव में दिग्विजय को मिला AAP का समर्थन, JJP होगी मजबूत            न्यूजीलैंड में धोनी का यही फॉर्म रहा बरकरार तो तोड़ देंगे सचिन का रिकॉर्ड           जींद उपचुनाव: मतदाताओं ने हर उम्मीदवार को दिखाया जीत का सपना           CM सिटी में सरेआम ट्रैफिक नियमों की उड़ाई जाती हैं धज्जियां, हादसों में हुआ भारी इजाफा           अंतरराष्ट्रीय सूरजकुंड मेले में थीम स्टेट महाराष्ट्र का दिखेगा इतिहास, तैयारियां जोरो पर            हार्दिक-राहुल के पक्ष में आया BCCI , दोनों की हो सकती है टीम में वापसी          
लोकसभा में पास हुआ तीन तलाक बिल, अब सभी की नजरें राज्यसभा पर
लोकसभा में पास हुआ तीन तलाक बिल, अब सभी की नजरें राज्यसभा पर
28 Dec 2018

 

नई दिल्ली: गुरुवार को भारी हंगामे के बीच लोकसभा में तीन तलाक बिल पास हो गया है। अब इसे मंजूरी के लिए राज्यसभा में पेश किया जाएगा। पांच घंटे तक चली चर्चा के बाद तीन तलाक बिल के लिए वोटिंग हुई जिसमें इसके पक्ष में 245 वोट पड़े तो 11 वोट तीन तलाक के विरोध में पड़े। वोटिंग के दौरान कांग्रेस समेत कई विपक्षी दलों ने सदन से वॉक आउट कर दिया जिससे पार्टियों ने सीधा संदेश दिया कि राज्यसभा में एकबार फिर से तीन तलाक बिल अटक सकता है। आपको बता दें कि इसे पहले सितंबर 2017 में भी लोकसभा में तीन तलाक बिल पास हो गया था लेकिन राज्यसभा से इसे मंजूरी नहीं मिली थी। जिसके बाद केंद्र सरकार को  इसके बाद सरकार को तीन तलाक पर अध्यादेश लाना पड़ा था। अब सरकार ने एक बार फिर से निचले सदन में संशोधित बिल पेश किया था। 

 

विपक्ष ने बोला हमला

 

लोकसभा में तीन तलाक बिल पर चर्चा के दौरान विपक्ष की तरफ से जोरदार हंगामा किया गया। कांग्रेस नेता मल्लिकार्जुन खड़गे ने दावा किया कि आने वाले चुनावों में राजनीतिक लाभ लेने के मकसद से भाजपा लोकसभा में इस विधेयक को पारित कराने के लिये बेकरार थी। लोकसभा में विधेयक पारित होने के बाद उन्होंने कहा, ‘‘तीन तलाक विधेयक संविधान के खिलाफ है। यह मौलिक अधिकारों के भी खिलाफ है। लोकसभा चुनाव आ रहे हैं इसलिए उन्होंने हड़बड़ी में लोकसभा में इस विधेयक को पारित कराया।

 

इसके अलावा ‘आप’ नेता संजय सिंह ने आरोप लगाया कि भाजपा खुद को मुस्लिम महिलाओं की हिमायती के तौर पर पेश कर राजनीतिक लाभ लेना चाहती है। राज्यसभा के सदस्य सिंह ने कहा कि यह समझ से परे है कि भाजपा तीन तलाक पर दंडात्मक प्रावधान के लिये क्यों तुली हुई है, जब उच्चतम न्यायालय इस प्रावधान को पहले ही अवैध बता चुका है। बता दें कि कांग्रेस समेत विपक्षी दल विधेयक को संयुक्त प्रवर समिति को भेजे जाने की मांग कर रहे थे। सरकार द्वारा उनकी मांग खारिज किए जाने के बाद विपक्षी दलों ने वॉकआउट किया।

 

राज्यसभा में विपक्ष है मजबूत

 

लोकसभा में बिल पास होने के बाद अब सभी की नजरें राज्यसभा पर है कि वहां विपक्ष का क्या रुख होगा। लेकिन जिस तरह से विपक्ष ने लोकसभा से वॉकआउट किया उसे देखकर लगता है कि राज्यसभा में भाजपा की राह आसान नहीं रहने वाली। दरअसल, राज्यसभा में फिलहाल एनडीए के पास 86 सांसद हैं, जिसमें बीजेपी के 73, जेडीयू के 6, शिवसेना के 3, अकाली दल के 3 और आरपीआई के 1 सांसद शामिल हैं। वहीं विपक्ष की बात करें तो कांग्रेस के 50, समाजवादी पार्टी के 13, टीएमसी के 13, सीपीएम के 5, एनसीपी के 4, एनसीपी के 4, बीएसपी के 4, सीपीआई के 2 और पीडीपी के 2 सांसद शामिल हैं। इस तरह से विपक्ष के पास कुल 97 सांसद हैं।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn