BREAKING NEWS
कंपनी के लोगों ने ही किया पेटीएम के मालिक का निजी डाटा लीक           हड़ताल 8वां दिन: कर्मचारियों और सरकार के बीच फंसी जनता            सुप्रीम कोर्ट ने दी पटाखें बिक्री की मंजूरी, जानिए पटाखें जलाने की समय सीमा           लगातार छठे दिन भी आई पेट्रोल डीजल के दामों में गिरावट           मनोहर पर्रिकर को एयर एंबुलेंस से ले जाया गया गोवा, हालत नाजुक           गुरूग्राम गोलीकांड: जज के सुरक्षाकर्मी ने ही ली पत्नी और बेटे की जान           उत्तरी भारत में दिखा 'तितली' का असर, मौसम ने ली करवट           तितली ने मचाई ओडिशा और आंध्रप्रदेश में तबाही, अलर्ट जारी           रामपाल हुए दोषी करार, हिसार व आस-पास के क्षेत्र में अलर्ट जारी           फरक्का एक्सप्रेस की 9 बोगियां पटरी से उतरी, 7 लोगों की मौत          
उत्तरी भारत में दिखा 'तितली' का असर, मौसम ने ली करवट
उत्तरी भारत में दिखा 'तितली' का असर, मौसम ने ली करवट
12 Oct 2018

 

ओडिशा: ओडिशा में 'तितली' चक्रवाती तूफान आने के बाद गुरुवार को दिन में दिल्ली-एनसीआर का मौसम ने अचानक से कवपट ली। आपको बता दें कि दोपहर करीब 1 बजे पूरे एनसीआर में धूलभरी आंधियां चलने लगीं और शाम होते-होते ठंड बढ़ गई। मौसम के इस बदलाव से हालात यह हुए कि लोगों को सिरहन सी महसूस होने लगी।

 

बता दें कि तेज हवाएं चलने से लोगों ने ठंडक महसूस हुई। लेकिन इस बढ़ती ठंडक का कारण तितली तूफान को कम और पहाड़ों में बर्फबारी का ज्यादा बताया जा रहा है। दरअसल मौसम विभाग काफी पहले ही यह चेतावनी दे चुका है कि इस साल ठंड कुछ पहले ही शुरू हो जाएगी क्योंकि बारिश मॉनसून के अंतिम दिनों तक अच्छी-खासी हुई है।

 

मिली जानकारी के मुताबिक दिल्ली में गुरुवार सुबह ऐसा कोई अनुमान नहीं था कि लोगों को ठंड का एहसास हो। बता दें कि आसमान में दिनभर आंशिक रूप से बादल छाए रहने और दिन में हल्की बारिश होने की भी संभावना जताई गई थी।

 

तो वहीं दूसरी ओर चक्रवाती तूफान तितली ने गुरुवार को आंध्र प्रदेश के उत्तर के तटीय इलाकों में कहर बरसा रखा है। मिली जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि तूफान के चलते हुए हादसों से अलग-अलग इलाकों में आठ लोग मारे गए। इसी के साथ तूफान ने गुरुवार तड़के आंध्र प्रदेश और ओडिशा के बीच दस्तक दी। तूफान इतना भारी था कि इसके चलते कई पेड़ उखड़ गए, बिजली के खंभे और मोबाइल टावर गिर गए और फसलों को भी भारी नुकसान पहुंचा।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn