BREAKING NEWS
इतिहास के पन्नों में 20 जनवरी           बजट पेश होने से पहले पीएम मोदी ने अपने बयान में कहां ‘सिर्फ GST और नोटंबदी ही मेरी सरकार के काम नहीं           संजय लीला भंसाली को कोर्ट से मिली राहत           फरीदाबाद में युवती से गैंगरेप मामला , पुलिस ने दो आरोपियों को किया गिरफ्तार           फिल्म 'पद्मावत' पर सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई , फिल्म के प्रतिबंध के खिलाफ निर्माता पहुंचे कोर्ट           इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू और भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का गुजरात दौरा           अशोक तंवर का बड़ा बयान , ‘विघटन के कगार पर है बीजेपी’           स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज का बयान , विज ने कांग्रेस पर साधा निशाना           कांग्रेस की साइकिल यात्रा शुरू, अशोक तंवर के नेतृत्व में साइकिल यात्रा           आज से चढ़ेगा क्रिकेट का ‘सुपर फीवर’ ! भारत-साउथ अफ्रीका के बीच आज से दूसरा टेस्ट मैच          
डेरा प्रमुख राम रहीम को रेप केस में 28 अगस्त को दी जाएगी सज़ा
डेरा प्रमुख राम रहीम को रेप केस में 28 अगस्त को दी जाएगी सज़ा
27 Aug 2017

 

चंड़ीगढ़: सज़ा,सरकार और सतर्कता, ये तीनों ही शब्द 28 अगस्त को बहुत महत्वपुर्ण साबित होने वाले हैं. क्योंकि रेप के दोषी राम रहीम को मिलने वाली सजा का ऐलान होगा. सरकार की व्यवस्थाओं पर सबकी निगाहें होंगी. साथ ही सुरक्षा एजेंसियों की सतर्कता सबसे ज्यादा मायने रखेगी.

 

आपको बता दें कि सत्ता पर जब भी कोई नई पार्टी काबिज होती है तो लोगों को उससे नई उम्मीदें होती हैं. और इसी विश्वास के साथ लोग उम्मीदवारों को चुनकर कुर्सी पर बिठाते भी हैं. लेकिन प्रदेश में जब से बीजेपी की सरकार आई है. तब से लगातार एक के बाद एक मामले सरकार की मुश्किलें बढ़ाते रहे हैं और सरकार की सांसें भी फुलाते रहे हैं. और कुछ ऐसा ही है गुरमीत राम रहीम के मामले में हुआ है.  

 

आपको बता दें कि शुक्रवार को डेरा सच्चा सौदा प्रमुख राम रहीम को रेप केस में पंचकूला में सीबीआई कोर्ट ने दोषी करार दिया. फैसले के बाद कई इलाकों में भड़की हिंसा में करीब 31 लोगों की मौत हो गई, करीब 250 लोग घायल हो गए और करोड़ों रुपये संपत्ति हिंसा और उपद्रव की भेंट चढ़ गई.

 

जाट आरक्षण हो, फरीदाबाद को सुनपेड़ मामला या राम रहीम मामला... हर जगह सरकार सांसत में रही है.  इस बार भी ऐसा लगा, जैसे सरकार बाबा के समर्थकों के खिलाफ कोई एक्शन नहीं लेना चाहती थी.  इस बीच सरकार की तरफ से सिर्फ शांति की अपील ही आती रही.

 

हालांकि हालात में अब थोड़ा सुधार जरुर आया है. और मामले को लेकर 28 तारिख यानि की कल सजा का ऐलान होगा. ऐसे में सत्ता धारियों और कानून व्यवस्था पर सबकी नजरें होंगी. कहीं इस बार फिर से शहर लाल तो नहीं हो जाएंगे सरकार की अंडर कट्रोल दलीलों के आगे. हालांकि कानून व्यव्स्था चौकस है. इसका दावा इस बार भी किया जा रहा है.

 

ये तीनों ही शब्द 28 अगस्त को बहोत महत्वपुर्ण साबित होने वाले हैं. क्योंकि रेप के दोषी राम रहीम को मिलने वाली सजा का ऐलान होगा. सरकार की व्यव्सथाओं पर सबकी निगाहें होंगी. साथ ही सुरक्षा एजेंसियों की सतर्कता सबसे ज्यादा मायने रखेगी.

Share this post