BREAKING NEWS
समाने आई सरकार की लापरवाही           क्या रोहिंग्या मुसलमान है सुरक्षा के लिए खतरा ?           गुरुग्राम नगर निगम चुनाव प्रचार हुआ तेज           डॉक्टर की गैरमौजूदगी में सिक्योरिटी गार्ड ने मरीज को लागये टांके           पलवली गांव चुनावी रंजिश में आतंक का खौफनाक खेल           फरीदाबाद में 5 लोगो की हत्या से मचा हड़कंप           पीएम मोदी ने किया कैबिनेट का विस्तार, नौ नए चेहरों का स्वागत           नागपुर-मुंबई दुरंतो एक्सप्रेस के 7 डिब्बे पटरी से उतरे           कानून का सबसे बड़ा ‘सच्चा सौदा’, राम रहीम को मिली 10 साल की सजा            डेरा प्रमुख राम रहीम को रेप केस में 28 अगस्त को दी जाएगी सज़ा          
राष्ट्रपति चुनाव: मीरा कुमार ने किया नामांकन, कई दिग्गज नेता नामांकन के दौरान रहे मौजूद
राष्ट्रपति चुनाव: मीरा कुमार ने किया नामांकन, कई दिग्गज नेता नामांकन के दौरान रहे मौजूद
28 Jun 2017

 

नई दिल्ली :  विपक्ष की राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार ने आज अपना नामांकन दाखिल कर दिया है. विपक्ष के कई दिग्गज नेता नामांकन के दौरान मौजूद रहे है. नामांकन से पहले मीरा कुमार राजघाट गई थी .मीरा कुमार ने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व पीएम मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, सीताराम येचुरी, शरद पवार जैसे विपक्ष के कई नेताओं की मौजूदगी में नामांकन भरा है.नामांकन से पहले मीरा कुमार राजघाट गई थी.

 

मीरा कुमार के नामांकन करने से पहले कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया. उन्होंने लिखा कि बांटने की नीति के खिलाफ हमनें देश को एक करने की विचारधारा को आगे रखा है. मीरा कुमार हमारी उम्मीदवार हैं, इस पर गर्व है.

इससे पहले उन्होंने मंगलवार को ऐलान किया था कि वह अपना चुनाव प्रचार साबरमती आश्रम से शुरू करेंगी. मीरा कुमार ने मंगलवार को प्रेस से भी बात की थी.

मीरा कुमार ने कहा कि विपक्ष की पार्टियों ने सर्वसम्मति से मुझे राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने का फैसला लिया. विपक्षी दलों की एकता समान विचारधारा पर आधारित है. मीरा कुमार ने कहा कि लोकतांत्रिक मूल्यों, पारदर्शिता, प्रेस की आजादी और गरीब का कल्याण हमारी विचारधारा के अंग हैं, इनमें मेरी गहरी आस्था है. 

 

मीरा कुमार ने कहा कि मैं अपना प्रचार साबरमती आश्रम से शुरू करुंगी. उन्होंने कहा कि बहुत जगह ये चर्चा है कि दो दलित आमने-सामने हैं. हम अभी भी ये आकलन कर रहे हैं कि समाज किस तरह सोचता है. जब उच्च जाति के लोग उम्मीदवार थे, तो उनकी जाति की चर्चा नहीं होती थी. उन्होंने कहा कि जाति को गठरी में बांधकर जमीन में गाड़ देना चाहिए, और आगे बढ़ना चाहिए.

Share this post