BREAKING NEWS
हार्दिक-राहुल के पक्ष में आया BCCI , दोनों की हो सकती है टीम में वापसी           सीएम मनोहर लाल ने अहमदाबाद में हरियाणा मैत्री संघ द्वारा आयोजित कार्यक्रम में की शिरकत           चोरी की वारदातों से निजात पाने का पुलिस प्रशासन ने निकाला नयाब तरीका           केएमपी एक्सप्रेस-वे पर फिर दिखा रफ्तार का कहर, हादसे में 2 लोगों की मौत           एनसीआर नहर में बह कर आई लाश का पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा           रणदीप सुरजेवाला को टिकट देने पर पूर्व सीएम हुड्डा ने तोड़ी चुप्पी, कहा....           ऑस्ट्रेलिया में गरजा धोनी का बल्ला, 8 साल बाद फिर बने "मैन ऑफ द सीरीज”            बेखौफ बदमाशों के बुलंद हौंसले, पिस्तौल की नोक पर लूट की वारदात को दिया अंजाम           मरते दम तक जेल में सड़ेगा राम रहीम, 17 साल बाद पीड़ित परिवार को मिला इंसाफ           दिल्ली की सड़कों पर करना होना ट्रैफिक नियमों का पालन नहीं तो यमराज से हो सकता है सामना           
अब संसदीय कमेटी तय करेगी सांसदों और विधायकों की तनख्वाह !
अब संसदीय कमेटी तय करेगी सांसदों और विधायकों की तनख्वाह !
24 Oct 2018

 

भिवानी: सुलतानपुर के सांसद वरूण गांधी का बड़ा बयान सामने आया है। आपको बता दें कि वरूण गांधी ने राजनीतिक सुधार पर बल देते हुए कहा कि सुदृढ़ सांसद व विधायक स्वत: अपनी तनख्वाह के लिए मना करें, ताकि देश के 400 करोड़ रुपये को बचाया जा सके। भिवानी पहुंचे बीजेपी सांसद वरूण गांधी ने शिक्षा और दूसरे मुद्दों को लेकर देश के सिस्टम पर सवाल भी उठाए और समाधान भी सुझाया।

 

इसी साथ ही उन्होंने बताया कि जब उन्होने सांसदों की संपति और वेतन बढ़ोतरी के सवाल उठाए तो प्रधानमंत्री ने फोन कर नाराजगी जताई। अपने बयान को विवादित करते हुए वरूण गांधी ने यह भी कहा कि पीएम मोदी ने फोन कर कहा कि मेरी मुसीबते क्यों बढ़ा रहे हो। उन्होंने कहा कि हर वर्ग के कर्मचारी अपनी मेहनत व ईमानदारी के हिसाब से वेतन बढ़वाते हैं, लेकिन 10 सालों में सांसदों का वेतन 7 बार केवल हाथ उठाकर बढ़वा लिया गया।

 

वरूण गांधी की आवाज का असर भी हुआ है जिसके बाद से अब सांसदों का वेतन मात्र हाथ उठाने से नहीं बल्कि संसदीय कमेटी के द्वारा तय किया जाएगा। तो वहीं दूसरी ओर किसानों के मुद्दों पर बोलते हुए वरूण गांधी ने कहा कि आज देश में 40 फीसदी किसान ठेके पर जमीन लेकर खेती करते हैं, जो गैरकानूनी है। क्योंकि ऐसे किसानों को ना तो सरकार की कोई मदद मिलती, ना ऋण मिलता और ना ही फसल बर्बाद होने पर मुआवजा मिलता।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn