BREAKING NEWS
काशी में बच्चों के साथ जन्मदिन सेलिब्रट करेंगे - मोदी           जानिए क्या है 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का महत्व           बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक का दूसरा दिन आज            अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई सोने की कीमतों में गिरावट           कैलाश यात्रा के बाद दुबई जाने का प्लेन बना रहे है राहुल गांधी           बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, लोकसभा चुनाव की दशा-दिशा होगी तय           अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत           एशियाई खेलों में भारत का छठा दिन भी रहा शानदार...           विरोधी नारों और काले झंडो के साथ हुआ शत्रुघ्न सिन्हा का स्वागत           भारी बारिश के कारण उत्तरी भारत में हुए स्कूल, कॉलेज ‘बंद’          
केजरीवाल ने दिए अधिकारियों को काम पर लौटने के निर्देश
केजरीवाल ने दिए अधिकारियों को काम पर लौटने के निर्देश
18 Jun 2018

 

नई दिल्ली: पिछले 7 दिनों से दिल्ली में भूख हड़ताल पर बैठे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इस विरोध ने एक नया मोड़ ले लिया है। आपको बता दें कि केजरीवाल का यह विरोध दिल्ली के एलजी हाउस में चल रहा था लेकिन इसके बाद वो दिल्ली की सड़कों पर प्रदर्शन में तब्दील हो गया है।

 

मिली जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि आम आदमी पार्टी के हजारों कार्यकर्ता मंडी हाउस से प्रधानमंत्री निवास की तरफ निकल चुके है। इसके साथ ही कल चार मुख्यमंत्रियों के समर्थन के बाद आम आदमी पार्टी को आज के प्रदर्शन में सीपीएम का भी साथ मिला है। इन सब विरोध प्रदर्शन के बीच दिल्ली के मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके IAS अधिकारियों को आश्वासन दिया है कि अधिकारी काम पर आएं और कहा है कि उन्हें डरने की कोई जरूरत नहीं है।

 

आपको बता दें कि अरविंद केजरीवाल ने ट्वीट किया है कि, 'मुझे बताया गया है कि IAS एसोसिएशन ने आज प्रेस कांफ्रेंस में अपनी सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। मैं उन्हें आश्वासन देता हूं कि मैं अपनी शक्ति और संसाधनों के भीतर उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करूंगा। इसी के साथ उन्होंने यह भी कहा कि यह मेरा कर्तव्य है और मैंने ऐसे ही आश्वासन उन अधिकारियों को भी दिए है जिन्होंने मुझसे मुलाकात की है और मैं आज फिर से यही बात दोहराता हूं।

 

इतना ही नहीं इसके बाद केजरीवाल ने आगे लिखा कि, सभी अधिकारी मेरे परिवार की तरह है, इसीलिए मैं उनसे गुजारिश करूंगा कि सरकार का बहिष्कार करना बंद करें और काम पर लौट जाएं और मंत्रियों की बैठकों में उपस्थित होना शुरू करें, साथ ही उनके फोन और मैसेज का भी जवाब दें। इतना ही नहीं केजरीवाल ने यह भी कहा कि वह किसी के भी दबाव में नहीं आएं, चाहे वह राज्य सरकार हो या केंद्र सरकार या कोई अन्य राजनीतिक दल।'

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn