BREAKING NEWS
हिन्दुस्तान के सामने ‘पस्त’ हुआ पाकिस्तान           बीएसएफ में खौफ बढ़ाने के लिए पाक ने की शहीद के साथ ‘बर्बरता’           काशी में बच्चों के साथ जन्मदिन सेलिब्रट करेंगे - मोदी           जानिए क्या है 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का महत्व           बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक का दूसरा दिन आज            अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई सोने की कीमतों में गिरावट           कैलाश यात्रा के बाद दुबई जाने का प्लेन बना रहे है राहुल गांधी           बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, लोकसभा चुनाव की दशा-दिशा होगी तय           अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत           एशियाई खेलों में भारत का छठा दिन भी रहा शानदार...          
अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत
अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत
25 Aug 2018

 

नई दिल्ली: भारत में पेट्रोल और डीजल की लगातार लोगों को राहत देने की बजाय उनकी मुश्किलें बढ़ा रही है। दरअसल इसी बीच एक हैरान कर देने वाली सूचना सामने आई है। आपको बता दें कि एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, आरटीआई से पता चला है कि भारत 15 देशों को 34 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से पेट्रोल और 29 देशों को 37 रुपए प्रति लीटर के हिसाब से डीजल निर्यात कर रहा है। इसी पेट्रोल और डीजल पर सरकार 125 से 150 फीसद तक टैक्स लगाकर अपनी ही जनता को बेच रही है।

 

मिली जानकारी के मुताबिक पंजाब के रोहित सभ्रवाल की आरटीआई से पता चला है कि मैंग्लोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स लिमिटिड से 1 जनवरी 2018 से 30 जून 2018 के बीच पांच देशों - हांगकांग, मलेशिया, मॉरिशस, सिंगापुर और यूएई को 32 से 34 रुपए प्रति लीटर में रिफाइंड पेट्रोल और 34 से 36 रुपए में रिफाइंड डीजल बेचा गया है। जबकि इस दैरान भारत में पेट्रोल की कीमत 69.97 रुपए से 75.55 रुपए प्रति लीटर और डीजल की कीमत 59.70 रुपए से 67.38 रुपए प्रति लीटर रही।

 

इतना ही नहीं रोहित सभ्रवाल कहते हैं कि बाकी देशों को भारत से भले ही बेहद सस्ता रिफाइंड पेट्रोल-डीजल मिल रहा हो, लेकिन यहां के लोगों पर 125 से 150 फीसद तक टैक्स लगाया जा रहा है। यही कारण है कि भारत के अधिकांश राज्यों में पेट्रोल 75 से 82 रुपए लीटर और डीजल 66 से 74 रुपए लीटर तक बेचा जा रहा है। गौरतलब है कि ताजा खबर के मुताबिक सरकार ने पेट्रोल-डीजल को जीएसटी के दायरे में लेने से इन्कार कर दिया है। जिसके कारण दाम कम होने की यह उम्मीद बिल्कुल खत्म हो गई है।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn