BREAKING NEWS
काशी में बच्चों के साथ जन्मदिन सेलिब्रट करेंगे - मोदी           जानिए क्या है 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का महत्व           बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक का दूसरा दिन आज            अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई सोने की कीमतों में गिरावट           कैलाश यात्रा के बाद दुबई जाने का प्लेन बना रहे है राहुल गांधी           बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, लोकसभा चुनाव की दशा-दिशा होगी तय           अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत           एशियाई खेलों में भारत का छठा दिन भी रहा शानदार...           विरोधी नारों और काले झंडो के साथ हुआ शत्रुघ्न सिन्हा का स्वागत           भारी बारिश के कारण उत्तरी भारत में हुए स्कूल, कॉलेज ‘बंद’          
बुराड़ी केस में हुआ बड़ा खुलासा, मिले ठोस सबूत
बुराड़ी केस में हुआ बड़ा खुलासा, मिले ठोस सबूत
03 Jul 2018

 

दिल्ली: दिल्ली के बुराड़ी इलाके में एक ही परिवार के 11 सदस्यों ने फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली। मृत्यु 11 लोगों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट सामने आने से यह साफ हो गया कि सभी की मौत फंदे से लटककर हुई है। इसी के साथ पुलिस की जांच में एक नया खुलासा हुआ है कि ललित दिमागी रूप से कमजोर और बड़ी पूजा के बहाने उसने पत्नी के साथ मिलकर सभी की जान ली है।

 

पुलिस का कहना है कि ललित के पिता की करीब 12 साल पहले ही मौत हो गई थी। मनोरोगी बन चुका ललित दावा करता था कि पिता की आत्मा उसके शरीर में प्रवेश कर जो करने के लिए कहती थी वो उन बातों को एक रजिस्टर में लिखता था। ललित ने साल 2015 से रजिस्टर में लिखना शुरु किया था। ललित ने रजिस्टर में लिखा कि पिता की आत्मा ने ही उसे बड़ी पूजा के लिए बोला था।

 

आपको बता दें कि इस पूजा के तहत सभी के हाथ बांधेंगे और गले में चुन्नियां लटकी थी। और सभी के नीचे स्टूल होगा। ललित ने सभी को बोला था कि वे 10-15 मिनट बाद पूजा खत्म होने के बाद स्टूल हटा सकते हैं और हाथों को खोल सकते हैं। पुलिस की मानें तो ललित ने पत्नी के साथ मिलकर सभी के नीचे से स्टूल हटा दिए। नौ चुन्नियां नई मंगाई गई थीं।

 

पुलिस के मुताबिक ललित ने सभी को पहले से बताया था कि पूजा में किसको कहां और कैसे खड़ा होना है और गले में चुन्नी डालनी है। पुलिस का यह भी कहना है कि ललित ने स्टूल हटाने के बाद पत्नी व मां के साथ मिलकर खुद भी खुदकुशी कर ली। ललित पहले बोल नहीं सकता था। तीन साल इलाज का बाद ललित बोलने लगा। इसलिए परिवार वाले ललित की हर बात का भरोसा करते थे।

 

खबरों कि मानें तो घर के मंदिर में मिले दो रजिस्टरों में निर्वाण, वट तपस्या, शून्य जैसे शब्दों का जिक्र है। नोट के मुताबिक, यदि कोई इन नियमों का पालन करेगा, उसकी सभी समस्याएं दूर हो जाएंगी और भगवान उनकी मदद करेंगे। रजिस्टर में सबसे पहली बात अगस्त 2015 में और आखिरी बार 30 जून को बातें लिखी गई हैं। बड़ी पूजा के लिए चार दिन मंगलवार, बृहस्पतिवार, शनिवार व रविवार तय किए गए थे। ललित ने सभी के मोबाइल फोन साइलेंट करवाए थे और पन्नी में लपेटकर कमरे में रख दिए थे।

 

इसी के साथ कॉल डिटेल के आधार पर परिवार को एक बाबा से लगातार संपर्क में रहने का पता चला है। पुलिस उस बाबा की तलाश कर रही है। वहीं मौत का रहस्य तांत्रिक क्रिया की ओर इशारा करता नज़र आ रहा है। पड़ोसियों को घर की दीवार पर लगे 11 पाइप और 11 पत्तियां देखकर अजीब लगा था। इनमें चार पाइप बिल्कुल सीधे थे, जबकि सात पाइप टेढ़े लगाए गए हैं। वहीं मरने वालों में चार पुरुष और सात महिलाएं हैं। इसी के साथ घर के मुख्य दरवाजे पर भी लोहे की 11 पत्तियां लगाई गई हैं।

 

पुलिस अधिकारी आलोक कुमार ने कहा कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हो जाता है कि सभी लोगों की मौत फंदे पर लटकने के कारण हुई। इसमें किसी बाहरी शख्स का हाथ नहीं लगता। भुवनेश व ललित की बहन सुजाता ने कहा कि अंधविश्वास के कारण मौत वाली पुलिस की थ्योरी सरासर गलत है। घर से कोई ऐसा रजिस्टर नहीं मिला, जिसमें खुदकुशी करने की बातें लिखीं हों। इस घटना के पीछे जरूर कोई गड़बड़ है।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn