BREAKING NEWS
काशी में बच्चों के साथ जन्मदिन सेलिब्रट करेंगे - मोदी           जानिए क्या है 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने का महत्व           बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक का दूसरा दिन आज            अंतरराष्ट्रीय बाजार में आई सोने की कीमतों में गिरावट           कैलाश यात्रा के बाद दुबई जाने का प्लेन बना रहे है राहुल गांधी           बीजेपी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक, लोकसभा चुनाव की दशा-दिशा होगी तय           अपने देश के बजाए दूसरे देशों को आधे दाम में पेट्रोल दे रहा भारत           एशियाई खेलों में भारत का छठा दिन भी रहा शानदार...           विरोधी नारों और काले झंडो के साथ हुआ शत्रुघ्न सिन्हा का स्वागत           भारी बारिश के कारण उत्तरी भारत में हुए स्कूल, कॉलेज ‘बंद’          
भारत में अग्नि-4 और अग्नि-5 हुई तैयार
भारत में अग्नि-4 और अग्नि-5 हुई तैयार
02 Jul 2018

 

नई दिल्ली: तकनीकी जगत में भारत नई तरक्कियों की ओर बढ़ रहा है आपको बता दें कि परमाणु क्षमता से लैस अग्नि-5 मिसाइल को भारत अपने इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल सिस्टम के पहले बैच में शामिल करने की तैयारी में लगा हुआ है। बता दें कि यह परमाणु क्षमता वाली सरफेस-टू-सरफेस मिसाइल 5,000 से 8,000 किलोमीटर तक के दायरे में निशाना साध सकती है। गौरतलब है कि यह मिसाइल चीन के लगभग हर हिस्से में पहुंच सकती है।

 

मिली जानकारी के मुताबिक मिसाइल के बैलिस्टिक मिसाइल सिस्टम में शामिल हो जाने से देश की सैन्य शक्ति को महत्वपूर्ण रूप से मजबूती मिल सकती है। इससे पहले इस मिसाइल का अब तक छह बार सफल परीक्षण किया जा चुका है। बताया जा रहा है कि इसका पहला परीक्षण 19 अप्रैल, 2012 को किया गया था। वहीं दूसरी बार 15 सितंबर 2013 को तो तीसरी बार 31 जनवरी 2015 को साथ ही चौथी बार 26 दिसबंर 2016 को हुआ और पांचवीं बार 18 जनवरी 2018 में किया गया।

 

आपको बता दें कि जब पांचवीं बार इसका परीक्षण किया गया था तब इसे यह कहकर परिभाषित किया गया था कि यह इंटरकॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का आखिरी परीक्षण है। आपको बता दें कि इससे पहले भारत के पास अग्नि-1, अग्नि-2 और अग्नि-3 मिसाइलें है। इन मिसाइलों को पाकिस्तान के खिलाफ बनाई जानें वाली रणनीति में इस्तेमाल किया जाएगा।

 

इतना ही नहीं दूसरी तरफ यह भी बताया जा रहा है कि अग्नि-4 और अग्नि-5 को चीन के लिए तैयार किया गया है। इस मिसाइल का भार 50 टन बताया जा रहा है। इसकी लंबाई 17 मीटर और चौड़ाई 2 मीटर है। दरअसल, यह अपने साथ एक टन से ज्यादा के परमाणु हथियार ले जा सकती है।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn