BREAKING NEWS
प्रद्युम्न हत्याकांड मामला, पिंटो परिवार की अग्रिम जमानत याचिका पर हुई सुनवाई           सीएम खट्टर के सोनीपत दौरे का दूसरा दिन, कई कार्यक्रमों में शामिल हुए सीएम खट्टर           प्रद्युम्न मर्डर मामला,बस कंडक्टर को नहीं मिली राहत           सरकार के खिलाफ किसानों का प्रदर्शन, दादुपूर नलवी नहर को लेकर फूटा गुस्सा           अपहरण कर के 10 दिनों तक किया युवती का बलात्कार            फिल्म 'पद्मावती' पर दीपिका पादुकोण नें आपने इंटरव्यू के दौरान पुछा क्या आप जानते है आखिर 'घूमर' होता           जेल में मौज कर रहा ‘राम रहीम’ !           पंडित जवाहर लाल नेहरु की जयंती, 14 नवंबर 1889 को हुआ था जवाहर लाल नेहरु का जन्म           प्रद्युम्न हत्या मामले में STI के चार सदस्यों से सीबीआई ने की पुछताछ           50 हजार श्रद्धालु ही एक दिन में कर सकते माता वैष्णो देवी के दर्शन          
नागपुर-मुंबई दुरंतो एक्सप्रेस के 7 डिब्बे पटरी से उतरे
नागपुर-मुंबई दुरंतो एक्सप्रेस के 7 डिब्बे पटरी से उतरे
29 Aug 2017

 

नई दिल्ली :  रेल हादसों की संख्या बढ़ती जा रही है. पहले यूपी में रेल हादसा हुआ.और अब महाराष्ट्र में नागपुर-मुंबई दूरंतो एक्सप्रेस के 7 डिब्बे और इंजन मंगलवार सुबह पटरी से उतर गए. महाराष्ट्र में टिटवाला के पास ये हादसा हुआ. इलाके में दो दिन से भारी बारिश हो रही है. जिसके चलते रेस्क्यू में दिक्कत आ रही है.

 खबर के मुताबिक, सेंट्रल रेलवे के पीआरओ सुनील उदेसी ने कहा कि इंजन और 7 डिब्बे पटरी से उतरे हैं. अभी तक की जानकारी के मुताबिक किसी भी तरह के जानमाल के नुकसान और किसी के जख्मी होने की खबर नहीं है.

आसनगांव-वासिंद स्टेशन के बीच सुबह 6 बजकर 35 मिनट पर ये हादसा हुआ.

लैंडस्लाइड के चलते हादसा हुआ.

दूरंतो एक्सप्रेस के जो डिब्बे पटरी से उतरे हैं, उनमें A1, A2, A3 और अन्य कोच शामिल

इलाके में भारी बारिश के चलते ट्रैक के नीचे की मिट्टी बह गई

रेलवे की ओर से राहत और बचाव कार्य शुरू कर दिया गया है

कल्याण से रेस्क्यू टीम हादसे वाली जगह भेजी गई है

दुर्घटना के बाद आसपास के लोग भी मदद के लिए पहुंचे

डिब्बों में फंसे लोगों को बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है

ये हादसा रेलवे व्यवस्था की हालत बयां कर रहा है. 10 दिन में देश में ये तीसरा ट्रेन हादसा है. कुछ दिनों पहले ही उत्कल एक्सप्रेस और कैफियत एक्सप्रेस हादसे का शिकार हुई.

19 अगस्त 2017

19 अगस्त को यूपी के मुजफ्फरनगर में पुरी-हरिद्वार उत्कल एक्सप्रेस के 12 डिब्बे पटरी से उतर गए थे.

दुर्घटना में 23 लोगों की मौत हुई थी जबकि 60 से ज्यादा घायल हुए थे.

23 अगस्त 2017

आजमगढ़ से दिल्ली जा रही कैफियत एक्सप्रेस यूपी के औरेया जिले में दिल्ली-हावड़ा रेल ट्रैक पर एक डंपर से टकरा गई.

इस हादसे में ट्रेन के इंजन समेत 10 डिब्बे पलट गए थे. हादसे में 80 से ज्यादा लोग जख्मी हुए थे. यूपी में हुए हादसों के चलते रेल मंत्री सुरेश प्रभु पर इस्तीफे का दबाव बना. प्रभु ने घटनाओं की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफे की पेशकश भी की...लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनको कुछ वक्त रुक जाने के लिए कहा...जानकारी के मुताबिक, अगले कैबिनेट बदलाव में नितिन गडकरी को रेल मंत्रालय दिया जा सकता है...लेकिन इन लगातार हुए हादसों ने कहीं न कहीं रेलवे का सच सामने लाया है...जहां हम बुलेट ट्रेन की बात कर रहे हैं. वहीं ये हादसे वर्तमान की सच्चाई बता रहे हैं.कि फिलहाल रेलवे व्यवस्था को दुरस्त करने की जरूरत है न की नए सपने देखने की.

Share this post