एक ही घर में मिली 11 लाशें
एक ही घर में मिली 11 लाशें
01 Jul 2018

 

नई दिल्ली: राजधानी से एक ऐसा मामला सामने आया है जिसमें यह पता लगाना बेहद मुश्किल हो रहा है कि यह हत्या है कि खुदकुशी। आपको बता दें कि एक ही घर में 11 लोगों की मौत हो गई। दिल्ली के बुराड़ी इलाके से रविवार की सुबह एक ही घर से 11 लोगों के शव रस्सी से लटके हुए मिले। सूत्रों के मुताबिक सभी मृतक एक ही परिवार के सदस्य बताए जा रहे है। जानकारी के लिए बता दें मृतकों में सात महिलाएं और चार पुरुष है।

 

मिली जानकारी के मुताबिक इनकी मौत कैसे हुई इस रहस्य के बारे में अब तक कुछ पता नहीं चल पाया है। इतना ही नहीं पुलिस को एक और बड़ी गुत्थी सुलझानी है कि यह मामला आत्महत्या का है या हत्या का। ऐसी कई बाते हैं जो आत्महत्या की ओर इशारा कर रही हैं।

 

पुलिस टीम के मुताबिक अब तक उन्हें घर के अंदर किसी भी तरह के संघर्ष के निशान नहीं मिल पाए हैं। मीडिया रिर्पोटर्स के मुताबिक निश्चित तौर पर अगर 11 सदस्यों की हत्या की गई है तो संघर्ष की स्थिति जरूर बनेगी। पुलिस को अब तक किसी शव पर हमला या किसी भी तरह जख्म के निशान नहीं मिल पाए है। उनके पड़ोसियों के मुताबिक उनका पूरा परिवार काफी धार्मिक था और उनका आपस में या मोहल्ले में भी किसी से कोई झगड़ा नहीं था।

 

पुलिस ने बताया कि दिल्ली स्थित इस घर में एक बुजुर्ग महिला और उसके दो बेटे अपने परिवार के साथ रहते थे। सभी सदस्यों के शव दो मंजिला घर की पहली मंजिल पर मिले थे। कई ऐसी बातें भी है जो हत्या की ओर इशारा कर रही हैं।

 

पुलिस जांच के मुताबिक घर की सबसे बुजुर्ग महिला की गला दबाकर हत्या कि गई है। पड़ोसियों के अनुसार घर का दरवाजा खुला हुआ था। ऐसे में यह शंका उठती है कि आत्महत्या करने से पहले परिवार को निश्चित तौर पर दरवाजा अंदर से बंद लेना चाहिए था, ताकि उन्हें ऐसा करने से कोई रोक न पाए। गौरतलब, बुजुर्ग महिला के अलावा सभी की लाशें रेलिंग से एक ही जाली की रस्सी से लटकती हुई मिली थी।

 

मिली जानकारी के मुताबिक रेलिंग से लटके हुए सभी शवों की आंख पर पट्टी बंधी हुई थी। इससे यह शंका पैदा होती है कि अगर पूरा परिवार सहमति से आत्महत्या कर रहा था तो आंख पर पट्टी बांधने की क्या जरूरत थी। कुछ शवों के तो हाथ-पैर भी बंधे मिले। कोई सुसाइड नोट भी नहीं मिला। पुलिस के मुताबिक जांच के बाद ही कुछ पता चल पाएगा।

Share this post

Submit to Google Bookmarks Submit to Technorati Submit to Twitter Submit to LinkedIn